जल‌ संसाधन
x

जल संसाधन-

1-जल युद्ध ??

“पानी, हर जगह पानी और पीने के लिए एक बूंद नही “

  • 3 / 4 विश्व पानी है – पानी नवीकरणीय है
  • क्यों वैश्विक जल की कमी? (2025 तक – 2 बिलियन पानी के बिना)
  • महासागरों में 96.5%
  • 2.5% मीठे पानी के रूप में -(इसमें से आइसकैप्स(बर्फ की टोपियां) में 70% और भूजल के रूप में 30%)
  • भारत में 4% वैश्विक बारिश हो जाती है और प्रति वर्ष प्रति व्यक्ति पानी की उपलब्धता में 133 वा क्रम है
  • भारत के कुल नवीकरणीय जल संसाधन प्रति वर्ष 1,897 वर्ग किमी का अनुमान है
जल‌ संसाधन
x
जल‌ संसाधन

2-क्यों कमी?

  • बारिश के असमान वितरण (राजस्थान के शुष्क क्षेत्रों) के कारण नहीं
  • अति शोषण
  • अत्यधिक उपयोग
  • विभिन्न सामाजिक समूहों के बीच पानी तक असमान पहुंच
  • बड़ी आबादी – पानी की अधिक मांग (घरेलू और कृषि उपयोग)
  • पानी के प्रचुर मात्रा में क्षेत्रों में भी कमी (शहरों की तरह)
  • औद्योगिकीकरण और शहरीकरण (भूजल पंपिंग उपकरणों)
  • पानी की खराब गुणवत्ता – रसायन, उर्वरक और कीटनाशकों द्वारा प्रदूषित
  • जल तनाव – जब पानी की उपलब्धता 1,000 m3 प्रति व्यक्ति प्रति दिन (फॉकन मार्क द्वारा) कम है,

3-बहु-उद्देश्य नदी परियोजनाएं और एकीकृत जल संसाधन प्रबंधन

  • ऐतिहासिक – पत्थर के बांध, सिंचाई के लिए नहर
  • 1 शताब्दी ई.पू..: इलाहाबाद के पास श्रृंगवेरपुर – जल संचयन प्रणाली गंगा के बाढ़ के पानी को प्रवाहित करती है
  • चंद्रगुप्त मौर्य: बांध, झीलों और सिंचाई प्रणाली का निर्माण किया गया।
  • सिंचाई कार्य: कलिंग, (उड़ीसा), नागार्जुनकोंडा (आंध्र प्रदेश), बैनूर (कर्नाटक), कोल्हापुर (महाराष्ट्र) आदि।
  • 11 वीं सदी: भोपाल झील – अपने समय के सबसे बड़े कृत्रिम झीलों में से एक बनाया गया था।
  • 14 वीं शताब्दी: हौज खास में टैंक, दिल्ली का निर्माण इलतुत्मिश ने सिरी फोर्ट क्षेत्र में पानी की आपूर्ति के लिए किया था।
जल‌ संसाधन
x
जल‌ संसाधन

4-वैकल्पिक – जल संचयन प्रणाली-

  • पहाड़ी और पहाड़ी क्षेत्रों – कृषि के लिए पश्चिमी हिमालय के ‘guls'(गुलस) या ‘kuls'(कुलस ) जैसे मनोरंजन चैनल।
  • छत के वर्षा जल संचयन – राजस्थान में पीने के पानी का संग्रह – टैंक / टंका में (पहली बारिश एकत्रित नहीं) – वर्षा जल या पलार पानी – शुद्ध पानी का रूप; शिलांग में भी
  • शिलोंग मौसनिन्राम के बहुत करीब- फिर भी तीव्र पानी की कमी है
  • बंगाल के बाढ़ के मैदान – अपने खेतों को सिंचाई करने के लिए सैलाब चैनल।
  • शुष्क और अर्ध-शुष्क क्षेत्रों – कृषि क्षेत्रों को बारिश वाले भंडारण ढांचे में परिवर्तित किया गया – पानी एकत्र किया गया और मिट्टी को सिक्त किया – जैसलमेर में ‘खादीन’ और अलवर में ‘ जोहद’
  • राजस्थान में – राजस्थान नहर द्वारा छत कटाई में कमी
  • तमिलनाडु – भारत के पहले और एकमात्र राज्य, जो पूरे राज्य में सभी घरों के लिए छत के ऊपर वर्षा जल संचयन संरचना अनिवार्य बनाने के लिए है।
जल‌ संसाधन
x
जल‌ संसाधन

5-कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न-

प्रश्न 1. अपने निवास क्षेत्र के आस-पास जल संग्रहण के परंपरागत प्रणाली का पता लगाइए।

free online mock test

उत्तर-जल संग्रहण भारत में बहुत पुरानी विधि है। हमारे आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में तालाबों और जोहड़ों में जल संग्रहण की पुरानी परंपरा है। नगर में भूमिगत जल संग्रहण की परंपरा अभी भी चल रही है, जो युगों पहले आरंभ हुई होगी।

प्रश्न 2. इस प्रणाली का पेयजल व्यवस्था (पर्वतीय क्षेत्रों मेंमैदानी क्षेत्र अथवा पठार क्षेत्र) से तुलना करें। उत्तर-पर्वतीय क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था

(1) लद्दाख के क्षेत्रों में जिंग द्वारा जल संरक्षण किया जाता है, जिसमें बर्फ के ग्लेशियर को रखा जाता है जो दिन के समय पिघल कर जल की कमी को पूरा करता है।

(2) बाँस की नालियाँ-जल संरक्षण की यह प्रणाली मेघालय में सदियों पुरानी पद्धति है। इसमें जल को बाँस की नालियों द्वारा संरक्षित करके उन्हें पहाड़ों के निचले भागों में उन्हीं बाँस की नालियों द्वारा लाया जाता है।

मैदानी क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था-

(1) तमिलनाडु क्षेत्र में वर्षा जल को बड़े-बड़े टैंकों में संरक्षित किया जाता है तथा ज़रूरत के समय उपयोग करते हैं।

(2) बावरियाँ-ये मुख्यत: राजस्थान में पाए जाते हैं। ये छोटे-छोटे तालाब हैं जो प्राचीन काल में बंजारों द्वारा पीने के पानी की पूर्ति के लिए बनाए गए थे।

पठारी क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था-

(1) भंडार-ये मुख्यतः महाराष्ट्र में पाए जाते हैं, जिसमें नदियों के किनारों पर ऊँची दीवारें बनाकर बड़ी मात्रा में जल को संरक्षित किया जाता है।

(2) जोहड़-ये पठारी क्षेत्रों की जमीन पर पाए जाने वाले प्राकृतिक छोटे खड्डे होते हैं। जो वर्षा जल को संरक्षित करने में सहायक होते हैं।

प्रश्न 3. अपने क्षेत्र में जल के स्रोत का पता लगाइएक्या इस स्रोत से जल क्षेत्र के सभी निवासियों को उपलब्ध है?

उत्तर-नई दिल्ली शहर में जलपूर्ति का मुख्य साधन नदी है। यमुना नदी का पानी पाइपों के द्वारा दिल्ली शहर में लाया जाता है। कुछ पानी शहर के अंदर ही बोर द्वारा ज़मीन से निकाला जाता है। सभी निवासियों के लिए जल की आपूर्ति नहीं हो पाती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *