पर्यावरण क्या अर्थ-

पर्यावरण क्या अर्थ-

1-पर्यावरण-

पर्यावरण का अर्थ है, हमारे चारों और का आवरण जिससे हम घिरे हुए हैं जैसे कि जल, पौधे, कचरा, भूमि, हवा जो प्रकृति के संतुलन को अच्छा बनाएं रखने में भूमिका निभाती है। साथ ही सभी सजीव जीव-जंतुओं को जीवित रखने और विकसित होने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। परंतु वर्तमान में मनुष्य के द्वारा प्रकृति की इस अनमोल भेंट को मनुष्य ने दूषित करने का कार्य किया है।

2-पर्यावरण के घटक:

पर्यावरण मुख्य रूप से वायुमंडल, जलमंडल, स्थलमंडल और जीवमंडल से बना होता है। लेकिन इन्हें साधारणतया दो प्रकार से विभजित किया जा सकता है जैसे की – सूक्ष्म पर्यावरण,  मैक्रो वातावरण | इसे दो अन्य प्रकार में विभाजित किया जा सकता है, शारीरिक और जैविक वातावरण के रूप में, जो नीचे चर्चा की गई है|

free online mock test

• सूक्ष्म पर्यावरण का अर्थ है जीव का निकटतम स्थानीय वातावरण |

• मैक्रो पर्यावरण का अर्थ है चारों ओर की सभी भौतिक और जैविक परिस्थितियों जो जीवों के आसपास बाह्य रूप से होते हैं |

• भौतिक वातावरण सभी अजैविक कारकों या स्थितियों को दर्शाता है जैसे तापमान, प्रकाश, वर्षा, मिट्टी, खनिज आदि| यह वायुमंडल, स्थलमंडल और जलमंडल से बना होता है |

• जैविक पर्यावरण में सभी जैविक कारक या जीवित रूपों से बना होता है जैसे पौधे, जीव, सूक्ष्म जीव

पर्यावरण हमारे लिए क्या करता है?

• प्रकृति के उत्पादक मूल्य: कच्चा माल जो की प्रयोग किया जाता है

I. नई दवाओं के विकास के लिए

II. औद्योगिक उत्पादों और

III. पर्यावरण हमारे लिए कच्चे पदार्थों का एक भंडार हैं जिनसे भविष्य में हजारों नए उत्पादों विकसित किए जा सकें|

सौन्दर्य और मनोरंजन का साधन: पर्यावरण हमारी सौंदर्य और मनोरंजन  जैसी जरूरतों का भी पूरा ख्याल रखता है इसके कई उदहारण हमारे दैनिक जीवन में मिलते रहते हैं |
 
• प्रकृति की विकल्प मान्यता : यदि  हम हमारे सभी संसाधनों का उपयोग कर लेते हैं सभी जीवों को मर देते हैं या वे पृथ्वी से विलुप्त हो जाते हैं, हवा प्रदूषित हो जाती है, भूमि बंजर हो जाती हैं, तथा पृथ्वी के हर कोने पर कूड़ा कचरा इकठ्ठा कर लेते हैं तो इतना तो तय है कि हम आगे आने वाली पीढ़ियों के लिए कुछ भी रहने लायक नहीं छोड़ रहे हैं|

हमारी वर्तमान पीढ़ी ने अपनी अर्थव्यवस्थाओं और जीवनशैली को जीवन की अव्यावहारिक पद्धति पर विकसित कर लिया है। हालांकि, प्रकृति ने हमें कई विकल्प प्रदान किए हैं कि किस तरह हम इन वस्तुओं व सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं। अब यदि जल्दी ही हम लोगों ने अपनी जरूरतों को काबू में नहीं किया तो आने वाले समय में इसके भयानक परिणाम सबको भुगतने होंगे|

पर्यावरण क्या अर्थ-
पर्यावरण क्या अर्थ-

3-पर्यावरण के प्रकार 

इसी तरह पर्यावरण बाह्य रूप से तीन रूपों में विद्यमान है ।

  1. भौतिक पर्यावरण
  2. जैविक पर्यावरण
  3. मनोसामाजिक पर्यावरण

भौतिक पर्यावरण –

पर्यावरण का प्रमुख भाग भौतिक पर्यावरण स्ेा मिलकर बनाता है जिसके अंतर्गत वायु ,जल ,खाद्य, पदार्थ, भूमि , ध्वनि ,ऊष्मा, प्रकाश ,नदी, खनिज पदार्थ एंव अन्य पदार्थ सम्मलित है । जिससे मनुष्य का निरन्तर सम्पर्क रहता है। हमेशा इन धटको से सम्पर्क रहने के कारण ये मानव स्वास्थ पर सीधा प्रभाव डालते है । सामान्य अवस्था की सांमजस्य टूटने से मनुष्य पर्यावरण के दुष्प्रभावों से प्रभावित हो जाता है ।

4-जैविक पर्यावरण –

सारभौम मेंजैविक पर्यावरण बहुत बडा अवयव है जो कि मानवों के ईद-गिर्द रहता है । यहॉ तक कि एक मानव के लिए दूसरा मानव भी पर्यावरण का एक भाग है । इसे दो भागों मे बाटा गया है।

  1. जन्तु समुदाय :- इसमें अति सूक्ष्म जीव प्रोटोजोआ के अमीबा से लेकर कार्डेटा समूह तक के समस्त जीव आते है । 
  2. वनस्पति समुदाय :- इसमें अति सूक्ष्म वनस्पतियों , औषधियों से लेकर पृथ्वी पर विद्यमान शिकोना वृक्ष समूह तक के समस्त पेड.- पौधे समाहित है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *