मृदा अपरदन क्या है-
x

मृदा अपरदन क्या है? | मृदा अपरदन के प्रकार?

प्राकृतिक रूप से घटित होने वाली एक भौतिक प्रक्रिया मृदा अपरदन कहलाती है जिसमें मुख्यत: जल एवं वायु जैसे प्राकृतिक बलों का भूमि की ऊपरी मृदा के कणों को बहा कर ले जाना सम्मिलित है।

मृदा अपरदन की परिभाषा?

मृदा अपरदन प्राकृतिक रूप से घटित होने वाली एक भौतिक प्रक्रिया है जिसमें मुख्यत: जल एवं वायु जैसे प्राकृतिक भौतिक बलों द्वारा भूमि की ऊपरी मृदा के कणों को अलग कर बहा ले जाना सम्मिलित है। यह सभी प्रकार की भू-आकृतियों को प्रभावित करता है।

मृदा अपरदन किसी भी कारण से मिट्टी का क्षरण है, लेकिन विशेष रूप से आसपास की स्थितियों में टूटने से। मृदा अपरदन के कुछ बड़े कारक हैं निवास स्थान का नुकसान, दिए गए क्षेत्र में अत्यधिक अपवाह और बिना रोटेशन के मोनोकल्चर। इसका परिणाम आमतौर पर जमीन के टूटने और/या खड़ी होने में होता है, लेकिन यह विशेष रूप से पहाड़ियों और पहाड़ों जैसे खड़ी और ढलान वाले परिदृश्यों में ध्यान देने योग्य है। मुझे आशा है कि इससे अपरदन की आगे की बारीकियों और इसके प्रभावों के बारे में कुछ जानकारी मिलनी चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें:  ऊर्जा का पारंपरिक स्रोत क्या है?

मृदा अपरदन क्या है?

मृदा के अधिकांश पोषक तत्त्वों, कार्बनिक पदार्थों एवं कीटनाशकों को ऊपरी मृदा सम्मिलित किये हुए है। पृथ्वी की आधी ऊपरी मृदा पिछले 150 सालों मेें खत्म हो चुकी है। मानव क्रियाकलापों द्वारा मृदा अपरदन में तेज़ी से वृद्धि हुई हैै। एक तरफ जहाँ जल अपरदन नम क्षेत्रों के ढालनुमा एवं पहाड़ी भू-भागों की समस्या है, वहीं वायु अपरदन शुष्क, तूफानी क्षेत्रों के चिकने एवं समतल भू-भागों की समस्या है। मृदा अपरदन की क्रियाविधि में मिट्टी के कणों का ढीला होना और उनका विलगाव तथा अलग की गई मिट्टी का परिवहन शामिल होता है।

मृदा अपरदन के दो प्रकार होते हैं- जल अपरदन एवं पवन अपरदन

1. जल अपरदन: जल के द्वारा मृदा का ह्रास जल अपरदन कहलाता है।

  • वर्षा जल अपरदन: वर्षा जल की बूँदों के सीधे सतह से टकराने के कारण मृदा कण पृथक होकर स्थानांतरित हो जाते हैं जिसे वर्षा जल अपरदन कहते हैं।
  • परत अपरदन: वर्षा जल की बूंदों एवं जल बहाव के कारण ऊपरी मृदा से एकसमान रूप से पतली परतों के रूप में मृदा का कटाव एवं अलगाव परत अपरदन कहलाता है।
  • रिल अपरदन: तीव्र वर्षा के कारण जब जल पतली-पतली नालियों से होकर प्रवाहित होने लगता है तो अपरदन द्वारा कम गहरी नालियों का निर्माण ही रिल अपरदन कहलाता है।
  • बड़ी अवनलिका अपरदन: अत्यधिक सतही जल प्रवाह के कारण गहरी नालियों का निर्माण होता है जिसे बड़ी अवनलिका या गली कहते हैं। ऐसा अपरदन गली अपरदन कहलाता है।
  • धारा तट अपरदन: धाराएँ एवं नदियाँ एक किनारे को काटकर तथा दूसरे किनारे पर गाद भार को निक्षेपित करके अपने प्रवाह मार्ग को बदलती रहती हैं। यह धारा तट अपरदन कहलाता है।

इन्हें भी पढ़ें: आपदा प्रबंधन के घटक।

मृदा अपरदन क्या है-
x
मृदा अपरदन क्या है-

मृदा अपरदन का क्या कारण है?

  • वृक्षों का अविवेकपूर्ण कटाव
  • वानस्पतिक फैलाव का घटना
  • वनों में आग लगना
  • भूमि को बंजर/खाली छोड़कर जल व वायु अपरदन के लिए प्रेरित करना|
  • मृदा अपरदन को त्वरित करने वाली फसलों को उगाना
  • त्रुटिपूर्ण फसल चक्र अपनाना
  • क्षेत्र ढलान की दिशा में कृषि कार्य करना|
  • सिंचाई की त्रुटिपूर्ण विधियाँ अपनाना

मृदा अपरदन मिट्टी से ऊपरी मिट्टी की परत को हटाना है। मृदा अपरदन को प्रभावित करने वाले अनेक कारक हैं। सबसे आम हवा और भारी बारिश होगी। हवा, बारिश, ट्रैक्टर चलाने वाले लोग, किसी भी तरह के वाहन चलाने वाले लोग। आसपास घूमने वाले लोग, मवेशी, भेड़ और अन्य जानवर जिन्हें लोग खाने के लिए अपने पास रखते हैं।

मिट्टी के कटाव को समझने के लिए हमें यह देखना होगा कि मिट्टी में क्या कमी है। पादप सामग्री मृदा अपरदन को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस प्रकार बहुत सारी घास वाले एक वेल्ड में मिट्टी का क्षरण कम होगा, भले ही भारी हवा और / या बारिश मौजूद हो, इसी तरह बड़ी मात्रा में कूड़े से ढकी मिट्टी (कचरा नहीं, बल्कि मृत और सड़ने वाले पत्ते और अन्य कार्बनिक पदार्थ) भी होंगे नंगे मिट्टी की तुलना में कम कटाव। इसका कारण केवल यह नहीं है कि घास/कूड़े मिट्टी को ढक लेते हैं, बल्कि यह मिट्टी के कणों को भी बांधते हैं, जिससे अत्यधिक गति से बचा जा सकता है। मृदा अपरदन के कुछ कारण जलवायु उन्मुख (उच्च तापमान, निम्न तापमान, वर्षा, हवा आदि) होंगे।

free online mock test

मृदा अपरदन का दूसरा बड़ा कारण मनुष्य है। जब मिट्टी के स्वास्थ्य और संरक्षण की बात आती है तो मनुष्य बहुत अनभिज्ञ होता है। हम मिट्टी को छोड़कर बाकी सब चीजों की परवाह करना पसंद करते हैं, इसके महत्व को भूल जाते हैं और इसके बिना हम जिन समस्याओं का सामना करते हैं। अधिकांश मृदा अपरदन खेतों और संरक्षण क्षेत्रों/प्रकृति भंडारों पर खराब प्रबंधन प्रथाओं के कारण होता है। इनमें से कुछ खराब प्रबंधन प्रथाएं उदाहरण के लिए चराई पर होंगी। जब अधिक चराई होती है तो वनस्पति को ठीक होने का समय नहीं मिलता है, इस प्रकार मिट्टी का क्षरण होने की तुलना में अधिक समय तक खुला रहता है।

उपरोक्त सभी बिंदुओं को छोड़कर, यह भी याद रखना चाहिए कि मिट्टी का कटाव जरूरी नहीं कि खराब हो। प्रकृति में मिट्टी को कुछ मात्रा में क्षरण की आवश्यकता होती है, लेकिन यह “प्राकृतिक” फैशन में होना चाहिए, न कि खराब प्रबंधन प्रथाओं के कारण। हालांकि इस प्रश्न का उत्तर यहां चर्चा की गई तुलना में कहीं अधिक गहराई में है।

इन्हें भी पढ़ें: फसल चक्र की परिभाषा लिखिए।

मृदा अपरदन की प्रक्रियां

जब वर्षा जल की बूंदें अत्यधिक ऊंचाई से मृदा सतह पर गिरती है तो वे महीन मृदा कणों को मृदा पिंड से अलग कर देती है| ये अलग हुए मृदा कण जल प्रवाह द्वारा फिसलते या लुढ़कते हुए झरनों, नालों या नदियों तक चले जाते हैं| अपरदन प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल होते हैं:

  • मृदा कणों का ढीला होकर अलग होना (अपरदन)
  • मृदा कणों का विभिन्न साधनों द्वारा अभिगमन (स्थानान्तरण)
  • मृदा कणों का का जमाव (निपेक्षण)

इन्हें भी पढ़ें: बेरोजगारी के प्रकार लिखिए।

मृदा अपरदन के 4 प्रकार क्या हैं?

  • कटाव,
  • चादर का कटाव,
  • रिला अपरदन,
  • नाला अपरदन,
  • खड्ड अपरदन,
  • भूस्खलन, और
  • धारा-किनारे का कटाव।

Read In English: What is soil erosion? What are the types of soil erosion?

2 thoughts on “मृदा अपरदन क्या है? | मृदा अपरदन के प्रकार?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *