परावैधुतांक क्या है (12th, Physics, Lesson-3)

परावैधुतांक के बारे में

dielectric in hindi किसी माध्यम की निरपेक्ष विद्युतशीलता तथा वायु या निर्वात की विद्युतशीलता की निष्पत्ति को उस माध्यम का परावैद्युतांक कहते हैं।

वह पदार्थ जो अपने में से विद्युत धारा को प्रवाहित नहीं होने देते हैं, लेकिन विद्युत प्रभाव दर्शाते हैं, परावैद्युत पदार्थ को कहलाते हैं। इनमें मुक्त इलेक्ट्रॉनों की संख्या लगभग नहीं होती हैं। उदाहरण के लिए, एबोनाइट, कांच, मोम, कागज, तेल, माइका आदि परावैद्युत पदार्थ है। ये पदार्थ विद्युतरोधी होते हैं, जो बाहरी विद्युत क्षेत्र में रखे जाने पर ध्रुवीत (polarised) हो जाते हैं।

माध्यम का परावैद्युतांक K = ε/ε₀

जहां ε (एप्साइलोन) उस माध्यम की निरपेक्ष विद्युतशीलता है तथा ε₀ (एप्साइलोन जीरो) वायु या निर्वात की विद्युतशीलता है। स्पष्ट है कि परावैद्युतांक राशि है। इसका कोई मात्रक नहीं होता है। कभी कभी परावैधुतांक को आपेक्षिक विद्युतशीलता (relative permittivity) भी कहते हैं तथा इसे अक्षर εᵣ से प्रदर्शित करते हैं।

पदार्थों के कुछ परावैद्युतांक मान

पदार्थपरावैद्युतांक मान
एबोनाइट2.8
कांच5.1
अम्बर2.8
अभ्रक5.9
मोम2.15
वायु1.0
मिट्टी का तेल2.0
पानी81.0

परावैद्युत के प्रकार

परावैद्युत निम्नलिखित दो प्रकार के होते हैं।

ध्रुवीय परावैद्युत

वे पदार्थ जिनके अणुओं के धनावेशो का केंद्र तथा ऋणावेश का केंद्र संपाती नहीं होता है, ध्रुवीय परावैद्युत कहलाते हैं। उदाहरण के लिए, H₂O, HCI आदि ध्रुवीय परावैद्युत है। इनका प्रत्येक अणु एक विद्युत द्विध्रुव की भांति व्यवहार करता है।

Polar dielectric, परावैधुतांक क्या है (12th, Physics, Lesson-3)

अध्रुवीय परावैद्युत

वह पदार्थ जिनके अंगों के धनावेशों का केंद्र तथा ऋणावेश का केंद्र संपाती होता है, अध्रुवीय परावैद्युत कहलाते हैं। उदाहरण के लिए H₂, O₂, CO₂, N₂ आदि अध्रुवीय परावैद्युत है। इनके प्रत्येक अणु का एक द्विध्रुव आघूर्ण शून्य होता है।

non Polar dielectric, परावैधुतांक क्या है (12th, Physics, Lesson-3)

ध्रुवीय परावैद्युत व अध्रुवीय परावैद्युत ध्रुवण

जब अध्रुवीय परावैद्युत को बाहरी विद्युत क्षेत्र में रखा जाता है, तो धनावेश का केंद्र विद्युत क्षेत्र की दिशा में तथा ऋणावेश का केंद्र, विद्युत क्षेत्र की दिशा के विपरित, थोड़ा सा विस्थापित हो जाता है। जिससे प्रत्येक अणु में कुछ द्विध्रुव आघूर्ण प्रेरित हो जाता है। इसे परावैद्युत ध्रुवण कहते हैं। एक बात ध्यान देने योग्य है कि परावैद्युत माध्यम सदैव विद्युत उदासीन होता है, चाहे वह ध्रुवीय हो या अध्रुवीय हो।

More Informationविद्युत स्थितिज ऊर्जा क्या है, परिभाषा (12th, Physics, Lesson-2)

My Website- 10th12th.Com



7 Comments

7 comments on "परावैधुतांक क्या है (12th, Physics, Lesson-3)"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post
Popular Post