ठोसो के द्वारा गैसों के अधिशोषण को कोनसे कारक प्रभावित करते है?

गैसों के अधिशोषण को प्रभावित करने वाले कारक: किसी द्रव या ठोस सतह पर, दूसरे पदार्थ के अणुओं को आकर्षित कर सतह पर बनाए रखने की घटना को अधिशोषण कहते हैं।

ठोसो के द्वारा गैसों के अधिशोषण को कोनसे कारक प्रभावित करते है?

12th, Chemistry, Lesson-5

अधिशोष्य की प्रकृति

आसानी से द्रवित होने वाली गैसे जैसे- NH₃, HCl एवं CO₂ अधिक मात्रा में अधिशोषित होती है। जबकि H₂, 0₂, N₂ आदि आसानी से द्रवित न होने वाली गैसे कम मात्रा में अधिशोषित होती है।

ताप का प्रभाव

अधिशोषण एक ऊष्मा क्षेपी क्रिया है अतः तापमान कम करने से अधिशोषण अधिक होगा और स्थिर ताप पर अधिशोषण की मात्रा और ताप के बीच खींचा गया ग्राफ अधिशोषण समदाबी वक्र कहलाता है।

दाब का प्रभाव

स्थिर ताप पर किसी अधिशोषक पर गैस का अधिशोषण दाब में वृद्धि के साथ साथ बढ़ती है। यह भी ठोसो के द्वारा गैसों के अधिशोषण को प्रभावित करने वाला कारक है।

अधिशोषक की प्रकृति

अधिशोषण के सतह की प्रक्रिया होने के कारण यह ठोस की सतह पर ही निर्भर करता है। अधिशोषण खुरदरी सतह, सच्छिद्र ठोस या महीन पाउडर पर अधिक होता है।

अंतिम निष्कर्ष– दोस्तों आज मैंने इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताया कि ठोसो के द्वारा गैसों के अधिशोषण को कोनसे कारक प्रभावित के बारे में बताया।

अगर आपको मेरे द्वारा बताई गई यह जानकारी पसंद आती है तो इसे अपनों में शेयर करें और मेरा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन अवश्य करें जिससे कि आपको एजुकेशन संबंधित जानकारी तुरंत प्राप्त हो पाए जी धन्यवाद।

Read More



2 Comments

2 comments on "ठोसो के द्वारा गैसों के अधिशोषण को कोनसे कारक प्रभावित करते है?"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post
Popular Post