मेंडल के तीनों नियम क्या है?
x

मेंडल के तीनों नियम क्या है? ? Mendal ka Niyam

मेंडल का प्रयोग | Mendal ke Prayog

ग्रेगोर मेंडल ने मटर के पौधों पर अपने प्रयोग करने के बाद वंशानुक्रम के मूलभूत नियमों की खोज की। उन्होंने उत्तराधिकार के तीन नियमों का प्रस्ताव रखा जिनका हम आज तक अध्ययन कर रहे हैं। उन्होंने विशेष लक्षणों के सात विपरीत लक्षणों वाले मटर के पौधों को चुना है और 14 सच्चे प्रजनन वाले मटर के पौधों की किस्मों पर अपना प्रयोग किया है।

मेंडल के तीनों नियम क्या है?
x
मेंडल के तीनों नियम क्या है?

मेंडल के तीनों नियम | Mendel ke tino Niyam

  • प्रभुत्व का नियम | Prabhutva ka niyam.
  • जीनों के पृथक्करण का नियम | Jeene ke prithakkaran ka niyam.
  • स्वतंत्र वर्गीकरण का नियम | Swatntra wargikaran ka niyam.

प्रभुत्व का नियम | Prabhutva ka niyam

इस कानून में यह समझाया गया है कि सभी लक्षण, या वर्ण इकाई द्वारा नियंत्रित होते हैं जिन्हें कारक कहा जाता है। ये कारक जोड़े में पाए जाते हैं और एलील कहलाते हैं। यदि वे एक ही जोड़े में होते हैं तो उन्हें समयुग्मजी कहा जाता है, वे या तो प्रमुख या पुनरावर्ती हो सकते हैं और यदि एलील एक अलग जोड़ी में होते हैं तो इसे विषमयुग्मजी कहा जाता है, यह हमेशा प्रमुख रहेगा।

“उदाहरण के लिए ऊंचाई के लिए एलील बौनेपन के लिए एलील पर हावी है”।

जीनों के पृथक्करण का नियम | Jeene ke prithakkaran ka niyam

पृथक्करण का नियम (law of separation) इस तथ्य पर आधारित है कि युग्मविकल्पी कोई सम्मिश्रण नहीं दिखाते हैं और यह कि दोनों पात्रों को दूसरी फिल्मीय पीढ़ी में इस तरह पुनर्प्राप्त किया जाता है, हालांकि इनमें से एक पहली पीढ़ी में नहीं देखा जाता है। कारकों का पृथक्करण या एलील की एक जोड़ी इस तरह से होती है कि युग्मक एक दूसरे से दो कारकों में से केवल एक को प्राप्त करता है।

स्वतंत्र वर्गीकरण का नियम | Swatntra wargikaran ka niyam

यह बताता है कि पैतृक पीढ़ी में लक्षणों के जोड़े एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाने पर एक दूसरे से स्वतंत्र रूप से क्रमबद्ध होते हैं। इसे एक डाइहाइब्रिड क्रॉस की सहायता से समझाया गया है।

इन्हे भी पढ़ें –

free online mock test

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *