विशिष्ट चालकता एवं मोलर चालकता किसे कहते है

मोलर चालकता

विशिष्ट चालकता एवं मोलर चालकता किसे कहते है, एक सेंटीमीटर दूरी एवं एक वर्ग सेंटीमीटर अनुप्रस्थ परिच्छेद के क्षेत्रफल वाले दो समांतर इलेक्ट्रोडो के बीच में रखे विलयन में यदि एक ग्राम मोल विद्युत अपघट्य घुला हो तो उस अवस्था में उसकी चालकता, उस विद्युत अपघटन की मोलर चालकता कहलाती है। इसे λm से दर्शाते हैं।

λm = k/c, जहा λm = विद्युत अपघट्य, k = विशिष्ट चालकता, c = सांद्रता से प्रदर्शित करते हैं।

12th, Chemistry, Lesson-3

विशिष्ट चालकता

जब प्रत्येक इलेक्ट्रोड का क्षेत्रफल 1Cm² तथा इलेक्ट्रोड के बीच की दूरी 1Cm हो तो सेल में भरे विद्युत अपघट्य के विलयन का चालकत्व या चालकता विशिष्ट चालकता कहलाता है। इसे K (kappa) से प्रदर्शित करते हैं।

विशिष्ट चालकता एवं मोलर चालकता किसे कहते है

दूसरे शब्दों में, 1Cm³ आयतन वाले विद्युत अपघट्य कि चालकता को विशिष्ट चालकता कहते हैं तथा विशिष्ट चालकता, विशिष्ट प्रतिरोध के व्यक्ति क्रम होता है

K = 1/P, K = 1/RA/l, l/RA, K = l/RA जहां R = प्रतिरोध, A = चालक के अनुप्रस्थ काट का क्षेत्रफल, l = चालक की लंबाई।

विशिष्ट चालकता का मात्रक

विशिष्ट चालकता का मात्रक, K = l/RA = सेंटीमीटर/ओम × सेंटीमीटर × सेंटीमीटर, 1/ ओम सेंटीमीटर = ओम⁻¹ सेंटीमीटर⁻¹

तुल्यांकी चालकता

किसी विलयन की चालकता उन समस्त आयनों की चालकता है, जो 1 ग्राम विद्युत अपघट्य को Vml में विलेय करने से उत्पन्न होती है। इसे Λᶜeq से दर्शाते है।

तुल्यांकी चालकता, विशिष्ट चालकता व आयतन के गुणनफल के बराबर होता है। Λᶜeq = k × v, जहा Λᶜeq = चालकता, k = Kappa यानी विशिष्ट चालकता, v = आयतन।

माना c ग्राम तुल्यांक 1000 Cm³ में विलेय है तो 1 ग्राम तुल्यांक = 1000 Cm³/ᶜeq, V = 1000 Cm³/c, Λᶜeq = k × 1000/c

तुल्यांकी चालकता की इकाई, Λᶜeq = k × 1000 Cm³/c, ओम⁻¹ सेमी⁻¹ सेमी³/ग्राम तुल्यांक, ओम⁻¹ सेमी²/ग्राम तुल्यांक इसे ही तुल्यांकी चालकता की इकाई कहते हैं।

Read More



One Comment

One comment on "विशिष्ट चालकता एवं मोलर चालकता किसे कहते है"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post
Popular Post