1. Home
  2. /
  3. 12th class
  4. /
  5. अर्थशास्त्र 12th
  6. /
  7. पूर्ण तथा अपूर्ण बाजार के अंतर को स्पष्ट कीजिए।

पूर्ण तथा अपूर्ण बाजार के अंतर को स्पष्ट कीजिए।

पूर्ण बाजार-

जब किसी वस्तु के बाजार में पूर्ण प्रतियोगिता की स्थिति पाई जाती है, तो वह पूर्ण प्रतियोगिता का बाजार अथवा ‘पूर्ण बाजार’ कहलाता है। पूर्ण बाजार में स्वतंत्र रूप में कार्य करने वाले क्रेताओं तथा विक्रेताओं की बहुत बड़ी संख्या होती है। उन्हें बाजार का पूर्ण ज्ञान होता है।

पूर्ण तथा अपूर्ण बाजार के अंतर को स्पष्ट कीजिए
पूर्ण तथा अपूर्ण बाजार के अंतर को स्पष्ट कीजिए

बाजार में परस्पर कोई स्नेहा नहीं होता। सारे बाजार में समरूप वस्तु का ही विक्रय होता है। बाजार में वस्तु के उत्पादकों को उत्पादन शुरू करने और बंद करने की पूर्ण स्वतंत्रता होती है। परिणामत पूर्ण बाजार में किसी वस्तु का एक ही मूल्य प्रचलित होता है।

अपूर्ण बाजार-

जब किसी बाजार में पूर्ण प्रतियोगिता अथवा पूर्ण बाजार की अनुपस्थिति पाई जाती है, तब उसे अपूर्ण बाजार कहते हैं। अन्य शब्दों में, अपूर्ण बाजार उस समय विद्यमान होता है,

free online mock test

जब बाजार में क्रेताओ और विक्रेताओं की संख्या अपेक्षाकृत कम होती है अथवा क्रेताओ तथा विक्रेताओं को बाजार का पूर्ण ज्ञान नहीं होता या वस्तु विभेद की स्थिति पाई जाती है। इस प्रकार अपूर्ण बाजार में एक वस्तु की एक ही कीमत नहीं पाई जाती।

1. पूर्ण बाजार किसे कहते हैं।

जब किसी वस्तु के बाजार में पूर्ण प्रतियोगिता की स्थिति पाई जाती है, तो वह पूर्ण प्रतियोगिता का बाजार अथवा ‘पूर्ण बाजार’ कहलाता है।

Read more – ऊर्जा के प्रमुख स्रोतों का वर्णन कीजिए।

Read more – ऊर्जा संरक्षण क्यों आवश्यक है?

Read more- जनसंख्या वृद्धि के महत्वपूर्ण घटकों की व्याख्या करें।

read more – लोकल एरिया नेटवर्क के लाभ ?

read more – औद्योगिक क्रांति से क्या लाभ है?

read more – फसल चक्र से क्या समझते हैं ?

read more – भारत में निर्धनता दूर करने के उपाय?

read more – ‘एक दलीय प्रणाली’क्या है?

latest article – जॉर्ज पंचम की नाक ( कमलेश्वर)

latest article – सौर-कुकर के लाभ ?

click here – click

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *