रक्त और लसीका में अंतर
x

रक्त और लसीका में अंतर।

रुधिर क्या है?

उच्च अकशेरुकी , कशेरुकी एवं मानव में पोषक पदार्थो , गैसों , हार्मोन , अपशिष्ट पदार्थों एवं अन्य उत्पादों के परिवहन के लिए रुधिर पाया जाता है जिसे एक पेशीय ह्रदय द्वारा पम्प किया जाता है , इस सम्पूर्ण तंत्र को परिसंचरण तन्त्र कहते है , परिसंचरण तंत्र के निम्न भाग होते है –

  • रुधिर
  • ह्रदय
  • रुधिर वाहिकाएँ
  • रुधिर (blood) : रुधिर एक तरल संयोजी उत्तक है , रूधिर में प्लाज्मा एवं रुधिर कोशिकाएँ होती है।मनुष्य में सामान्यत: रुधिर का आयतन 5 लीटर होता है।
  • प्लाज्मा (plasma) : यह रूधिर का तरल भाग होता है , यह हल्के , पीले रंग का क्षारीय तरल होता है।यह रुधिर का 55% भाग होता है इसमें 90% जल एवं 10% कार्बनिक व अकार्बनिक पदार्थ होते है।

लसीका क्या है?

कोशिकाओं के चारों ओर द्रव की एक पतली परत होती है, ऊतक द्रव (Tissue fluid) कहते हैं । रुधिर एवं कोशिकाओं के मध्य होने वाले पदार्थों आदान-प्रदान इसी ऊतक द्रव के माध्यम से होता है। वास्तव में रुधिर कोशिकाओं से पदार्थ जैसे- भोजन, ऑक्सीजन आदि सबसे पहले इसी ऊतक द्रव में ही विसरित होते हैं।

रक्त और लसीका में अंतर
x
रक्त और लसीका में अंतर

और तब ऊतक द्रव से कोशिकाओं में। इसी प्रकार कोशिकाओं से पदार्थ जैसे- CO2, यूरिया आदि पहले इसी ऊतक-द्रव में विसरित होते हैं, फिर इस द्रव से रुधिर कोशिकाओं में। यह ऊतकद्रव वाहिनियों में एकत्रित होता है। वाहिनियों में एकत्रित होने के बाद इसे लसीका कहते हैं। लसीका जिस वाहिनी में एकत्रित होता है उसे लसीका वाहिनी (Lymph Vessel) कहते हैं।

रक्त और लसीका में अंतर

रुधिर

  1. रुधिर का रंग लाल होता है।
  2. रुधिर में लाल रुधिराणु पाए जाते हैं।
  3. विधि द्वारा आरक्षण तथा कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन होता है।
  4. विलेय प्लाजमा प्रोटीन अधिक होती है।
  5. ऑक्सीजन तथा पोषक पदार्थ अधिक मात्रा में पाए जाते हैं।

लसीका

  1. लसीका का रंग सफेद होता है।
  2. लसीका में लाल रुधिराणु नहीं पाए जाते हैं।
  3. लसीका ऑक्सीजन कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन नहीं करती है।
  4. अविलेय प्लाज्मा प्रोटीन अधिक होती है। लिंफोसाइट्स की संख्या अधिक होती है।
  5. उत्सर्जित पदार्थों की मात्रा अपेक्षाकृत अधिक होती है।

1. लसिका किसे कहते हैं?

कोशिकाओं के चारों ओर द्रव की एक पतली परत होती है, ऊतक द्रव (Tissue fluid) कहते हैं । रुधिर एवं कोशिकाओं के मध्य होने वाले पदार्थों आदान-प्रदान इसी ऊतक द्रव के माध्यम से होता है। वास्तव में रुधिर कोशिकाओं से पदार्थ जैसे- भोजन, ऑक्सीजन आदि सबसे पहले इसी ऊतक द्रव में ही विसरित होते हैं।

free online mock test

read more – औद्योगिक क्रांति से क्या लाभ है?

read more – फसल चक्र से क्या समझते हैं ?

read more – भारत में निर्धनता दूर करने के उपाय?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *