बहुसंख्यक वाद से क्या अभिप्राय है?

बहुसंख्यकवाद यह मान्यता है कि अगर कोई समुदायबहुसंख्यक है तो वह मनचाहे ढंग से देश का शासन कर सकता है और इसकेलिए वह अल्पसंख्यक समुदाय की आवश्यकताओं या इच्छाओं की अवहेलना कर सकता है। श्रीलंका में गृहयुद्ध व अशान्ति- सन् 1948 में श्रीलंका स्वतन्त्र राष्ट्रबना। सिंहली समुदाय के नेताओं ने अपनी बहुसंख्या के बल पर […]

10th class