परासरण क्या है व यह कितने प्रकार के होते हैं (12th, biology, Lesson-1)

परासरण के बारे में “परासरण वह क्रिया है जिसमें अर्द्ध-पारगम्य झिल्ली द्वारा प्रथक किये गये विभिन्न सांद्रता वाले दो घोलो (solution) में जल अथवा किसी विलायक के अणुओं का विसरण कम सांद्रता वाले घोल से अधिक सांद्रता (Concentrations) वाले घोल (solution) की ओर होता है।” वास्तव में, विलायक का विसरण झिल्ली के आर-पार दोनों ओर […]